Sunday, March 2, 2014

लोग कहते है

लोग कहते है मुझे मोहब्बत हो गई है ,
मैं कहता हूँ तुमसे कोई भूल हो गई है ||

वो कहते है मैं खामोश रहने लगा हूँ ,
मैं कहता हूँ यूँ ही जीने की आदत हो गई है ||

वो जानना चाहते है मेरी इस ख़ामोशी की वजह को ,
क्यूँ आज हर वजह बताने की ज़रूरत हो गई है ||

क्या किसी चेहते की चाहत को ही मोहब्बत कहते है ,
मुझे तो अपनी तन्हाई से ही मोहब्बत हो गई है ||

No comments:

Post a Comment