Saturday, February 8, 2014

इज़हार

तुझे खोने के डर से आज मैं इज़हार कर बैठा
क्या पता था बर्बादियों की तरफ कदम बड़ा बैठा

उम्मीद थी तेरी भी रज़ा ही होगी
पर जाने क्यूँ मैं ये नापाक भूल कर बैठा

कल तक जो दुनियाँ खुशियों से रंगीन थी
आज मैं ही दखो इसको वीरान कर बैठा

मुझे लगता था हम नयी शुरुआत करेंगे
पर आज मैं ही इस ख्वाब का क़त्ल कर बैठा

विनाशकाले विपरीत बुद्धि, सुना था बुजुर्गों से
पर आज देखो मैं भी इस पर अमल कर बैठा....